Special Features

She

She walks Without shoes

Torn outfit

Undressed hair

Dirty nails

Dried hand

Isolated body

Smelling filthy mat
Who is she ??

She is tramp everyone knows

Ever come and harrass 

While eating and drinking

Dancing and smiling

Enjoying with laughter

Living in our circles fun
She talked with her self gave me little smile

She said sweetie”I remember me having that laughter

Getting friends eating like predators

Called good dancer who brings us pleasure

 Used to be hunted like a milIon times

With soft hands smelling fragrance

Long haired,stiletto nails

Branded outfit wearing heels

Never walked on foot, Choosing cars

Keen woman but who didnt had “GOALS”

She escorted out by recommending me that indirect but rational advice.

Special Features, Uncategorized

Doctor

You said, “They’re here for money.”

But you didn’t take care when they saved your life honey.

 You said, “It’s just their profession.”

But it’s a whole load of depression

When the surgery was of five hours 

Yet no response from you. 
The most crucial time for them

Is when you’re in pain

You just care about the money it takes

But what about your life which was on stake. 


They are your real Gods

Their hearts are not with them.

 It’s within those lives which come to them on a stretcher. 


Walls of a hospital have heard more prayers

Than a temple ever would. 
A doctor is the God on EarthLife and death is with them. 

Special Features

The Words Unsaid

It’s a new day, the breeze made the leaves flutter.

but though she lived in the city his cheer and laughter was all she could hear.

She still remembered the first time they sat down and had a talk,the sea was right in front of them but on each other were their eyes locked.

They talked about all the memories the laughter and even their pain it was the day she knew she’d remember as not a minute of it had gone in vain.

Months past and their bond grew stronger and the day he showed up on her door step she knew it was going to last longer.

She got the butterflies she had got when she met him for the first time,she could imagine someone would could love her so much and she could call him mine.

They laughed and played and just sat with one another,after all that is what they were seeking to discover.

It was a pleasing sunset they wished they were side by side but their time had already died.

Special Features

Happy Poems

Every time i try to
write a happy poem
my mind folds
all the happiness
into itself
as if it is scared
that writing it out
may drive it away
and after all
it is sadness
that one has to
write out
expel out
not happiness

Every time i try to
write a happy poem
my mind squeezes
every last drop of happiness
and stashes it
in a corner somewhere
maybe to keep it safe
maybe for times i need it
more desperately
maybe to give it to those
who need it more than me
or maybe just because
sadness is what i feel comfortable in now

This sadness
is the ink
that fuels my poetry
and a poet’s biggest fear
is always
running out of words
out of ink

Now whenever
anything happy happens
i don’t try to
write a poem
instead
i try to enjoy it
till it lasts
till my ink
comes back again
//why i don’t write happy poems//

Special Features

सफ़र

मैं लहर बन झंकार सी गूंजती चली जा रही थी,और वो किनारा बन मेरे मुकाम का मेरा वहीं वक़्त बेव्क़्त इंतज़ार करता रहा।

मेरी खुशबू में भी उसकी अलग ही इज़्तिरार करती है बयां उन ख्वाइशों को,हमने सुना है सफर तय करते हैं वो भी जिनकी मंज़िलें तय नहीं होती हैं।

अफसोस, मुझे अपने ही तट के पास रहने का मौका नहीं मिलता,परन्तु मेरी उस तट से मोहब्बत नियति का कितना नायाब उदाहरण है कि बिना काँटों के गुलाब भी नहीं खिलता।क्या श्रिंगार किया है इस कायनात ने, बिना मेरे वो अधूरा है और बिना उसके मै!!

पर यह उल्फ़त इस कदर बयां होती है…..ना तो मुझे वो मिलता है और ना उसे मैं।

मुझे पता है कि तुम भी मुझे नहीं मिलने वाले,पर मै टेहरी लहर, खुदा की महर।

उठूँगी-गिरूँगी; कहर मचाऊंगी,तुझसे मिलकर ही रहूंगी।।कैसी कुर्बत रची है खुदा ने की तुम मुझे-मैं तुम्हेंसुकून देती हूँ। जब मैं हार मान बैठती हुँ; तुम मुझे सहलाते हो।

जब मैं उत्सुक होती हुँ; तुम ही शांति का दीदार भी कराते हो ।।

मुझे उन नैनों में अपना ठिकाना मिल जाता है,पर अकसर, मैनें लहरों को खाना- ए- बदोशियों की तरह फिरते देखा है

कितना गज़ब का बंधन है।एक पहलू हमारा मिलन निश्चित करता है, और दूसरा पहलू जुदाई का अलग ही सफरनामा बयां करता है।।

मैं लहर बन पूरा सफर सिर्फ तेरी एक झलक पाने के लिए तय करती हूँ,पर कभी तुझे एक कदम झुटला कर आगे बढ़ते नहीं देखा। जनाब! ये मोहब्बत है।

बिना किसी इंतज़ार के हर बार तेरे पुकारने से पहले उस ताबीर को तेरे समक्ष रख दिया।।जैसे एक परिंदे का आशियां फलक होता है,ठीक उसी प्रकार मेरी जन्नत तेरा किनारा है।

हर दफ़ा सिर्फ तू मेरा इंतेज़ार करता है, तब, जब उलझन में पड़ी मैं आसमान से जा मिलती हूँ ,और तब भी जब क्षितिज की लालिमा मुझ से बिखरती है।।

तुझे क्यों ऐसा प्रतीत होता है कि बारिश की महक मेरे लिए ज़्यादा म्ह्तव्पुर्ण है,जबकि तूझे मालूम है कि मैं सिर्फ तेरे लिए भागी दौड़ी चली आती हुँ।

मेरा चाहे कोई जितना मर्ज़ी रास्ता रोकना चाहे ,मैं तेरी ओर हर बार खिंची चली आती हुँ।।

और तू भी वहीं ठीक उसी जगह,मुसाफिर बन, खड़ा होता है।

पर अगर हम एक जगह टहर गए तो क़ायनात के तर्ज़ को ठुकरा देंगे,और फिर यह जहाँ भी उस तबाही से वाक़िफ़ हो जाएगा जिससे यह मेहरूम था।

तो इसलिए जैसा क्रम चल रहा है वैसे ही चलते रहने देते हैं,आज फिर एक बार दो तरफा मोहब्बत के पएमाने को मात देते हैं,जो दूसरे की मोहताज नहीं, वही तो एक तरफा मोहब्बत है, उसी तट के किनारे इंतज़ार करती हुँ मैं जहाँ से आता दिखता तेरा खत्त है।

सिर्फ तू मेरे फितूर से वाक़िफ़ है, कि मै तेरी लहर असल में कैसे बातें करती हुँ,खुल के ज़माने से छुप के सिर्फ तेरा ही ज़िक्र अपनी रूहानियत से करती हुँ।

मैं ज़माने के सामने चाहे लडूं, मुस्कुराऊं ,भागुं या चाहे मुहँ फेर लूँ,पर तेरे अन्दर लीन होकर उस जुनून में बहकर फिर उस क़फस में क़ैद हो जाना भी एक रिवायत सी बन गयी है!!